Rj Ramesh

Source: Rj Ramesh

Advertisements

Dhyan Gyan

ध्यान  और ज्ञान ये दो बहुत सुंदर शब्द है ध्यान से सुनेंगे तो ज्ञान को समझ सकेंगे और उस पर मनन भी कर सकेंगे और जब मनन होगा तो ज्ञान की गहराई में उतर जायेंगे ज्ञान का अनुभव होगा और धीरे धीरे ध्यान याने आपकी एकाग्रता   बढ़ती जाएगी और आपका मन शांति की प्राप्ति करने लगेगा .

 

Climate Change

Today we are Enjoy the Nature But not as we want we are adjusting our self with some how.  Machines are Replacing if we need cooling we use A.c. and if we need Heat we use Heaters and today if we want to talk with our Friends or relative we avoid to meet Personally we use Mobile and talk …. is this a right way of life ? Just ask your self and feel what i want to say…

Challenges and Opportunities in Tourism

 आधुनिक भारत में पर्यटन में अवसर वा चुनोतियो पर अन्तराष्ट्रीय कांफ्रेंस

 

माधव विश्वविद्यालय द्वारा माधव यूनिवर्सिटी के ऑडिटोरियम में दो दिवसीय अन्तराष्ट्रीय कांफ्रेंस का दिनाक २३ वा २४ मार्च २०१७ को किया गया |

कांफ्रेंस का विषय था आधुनिक भारत में पर्यटन में अवसर वा चुनोतिया इस कार्यकर्म में हमारी रेडियो मधुबन टीम ने भी भाग लिया जिस में पवित्र भाई, योगी भाई और अर जे रमेश भी शामिल थे |

कार्यक्रम की शुरुआत दीप प्रज्वलन व सरस्वती वंदना से हुई | इस के बाद आमंत्रित अतिथियों का स्वागत राजस्थानी साफा व फूल मालाओं से किया गया |

सर्व प्रथम डॉ. महेंद्र सिंह परमार डीन सामाजिक विज्ञानं और शिक्षा विभाग माधव विश्व विद्यालय के द्वारा स्वागत भाषण दिया गया | इस के बाद विभिन्न वक्ताओ ने उपरोक्त विषय पर अपने अपने विचार रखे| वक्ताओ ने बताया भारत में पर्यटन की अपार संभावनाये हें साथ ही राजस्थान में बहुत स्कोप है|

चुनोतिया भी बहुत है क्यों की लोगों में पर्यटन के बारे में जागरुकता कम है | अंतः लोगों में पर्यटन के संबंधन में जागरुकता लानी होगी और उन्हें पर्यटन के बारे में बताना होगा पर्यटन के द्वारा हम और हमारे देश को कितना फायदा होगा हमारे देश की करेंसी बढेगी हमारी और भारत की आर्थिक स्थिति मजबूत होगी| पर्यटन से रोजगार भी बढेगा |

प्रोफेसर अशोक सिंह हेड पर्यटन और होटल मैनेजमेंट डिपार्टमेंट मोहनलाल सुखाडिया विश्व विद्यालय उदयपुर ने विष्तार से बताया की भारत में विशेष कर राजस्थान में पर्यटन के क्षेत्र में क्या क्या सम्भावनाये है तथा क्या क्या चुनोतिया है तथा इनका क्या क्या निवारण है | और रोजगर के क्या क्या अवसर है | उन्होंने कहा की हर ११ रोजगार पर एक रोजगार पर्यटन क्षेत्र में है | उन्होंने ये भी कहा की राजस्थान की भोगोलिक स्थिति इतनी अनुकूल है कि पुरे देश में पर्यटन क्षेत्र में सब से पहला प्रदेश हो सकता है

इसके अलावा निम्न वक्ताओं द्वारा विचार रखे गए |

1 मुख्य अतिथि – डोरोथी  स्टें फ़ील्ड U.S.A

2 मुख्य अतिथि – मार्सेलो बल्क कोलंबिया

3 मुख्य वक्ता – Dr. P.K. पंड्या

4 विशेष अतिथि -A.S. अग्निहोत्री

5 और श्री नरेन्द्र सिंह दाबी

कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रोफेसर रेवत सर ने की व कार्यक्रम का समापन व आभार डॉ. देवेन्द्र मुजाल्दा द्वारा किया गया|

रेडियो मधुबन की टीम द्वारा सम्पूर्ण कार्यक्रम की रिकॉर्डिंग व फोटोग्राफी की गयी और माधव विश्व विद्यालय के मुख्य स्टाफ को रेडियो मधुबन के कार्यकर्मो की जानकारी दी गयी और स्टाफ द्वारा हमारे प्रयासों की सराहना की गयी तथा आने वाले समय में रेडियो मधुबन से जुड़ने का आश्वाशन दिया गया और रेडियो मधुबन पर रिकार्डेड प्रोग्राम का २५ और २६ मार्च २०१७ को १ से २ बजे दोपहर विशेष मुलाकात प्रोग्राम में प्रसारण किया जायेगा |

 

 

 

Rj Ramesh TARANG

डिजिटल सिंगिंग कम्पटीशन तरंग

Digital Singing Competition TARANG

आबू रोड स्तिथ ब्रह्माकुमारिज का सामुदायिक रेडियो स्टेशन ९०.४ फम के लिए १३ फेब्रुअरी २०१७ रेडियो के इतिहास में सुनहरी यादों में से एक है. उस दिन की अमित छाप सबके मन पर छप गई है. उसी दिन रेडियो मधुबन ने एक अनोखे निराले भारत में दूसरी बार डिजिटल सिंगिंग कम्पटीशन तरंग को प्रक्षेपित किया. तरंग अपने आप में एक अनोखा निराला प्रोग्राम है इसलिए क्योंकि यहाँ देश के किसी भी कोने में बैठे व्यक्ति अपनी सिंगिंग की प्रतिभा को उभार सकता है तथा अपनी मधुर आवाज़ अपने ही स्थान पर बैठे बैठे देश विदेश तक पहुंचा सकता है.

वैसे तो हरेक व्यक्ति के लिए संभव नहीं होता की वे आबू रोड तीन राउंड के लिए बार बार आये और अपनी ऑडिशन दे. अतः आर जे रमेश ने एक नया विधि अपनाई जिससे प्रतिभाशाली बच्चे बडे बूढ़े सभी सिंगिंग कम्पटीशन में भाग लेने का अपना स्वप्न पूरा कर सकते हैं.

इस कम्पटीशन में भाग लेने के लिए आवश्यकता है स्काइप डाउनलोड करने की. आपके पास स्काइप एप होना चाहिये. स्काइप के द्वारा आप अपना ऑडिशन अपने ही स्थान पर बैठे बैठे दे सकते हैं.  हमारा ऑनलाइन ऑडिशन होता है जो की रेडियो मधुबन में लाइव परसारन  किया जाता है. सभी श्रोतागण को स म स द्वारा वोट करना होता है.

इस सिंगिंग कम्पटीशन ऑडिशन के तीन चरण होते हैं.  पहला है ओपन राउंड जिसमे सभी प्रतियोगी को अपने पसंद के गीत गाने होते हैं. उनमे से जो सेलेक्ट होते हैं वे दुसरे राउंड में प्रवेश करते हैं.  दुसरे राउंड में उनको थीम दी जाती है और कुछ समय भी प्रदान किया जाता है जिससे वे अपने आप को तैयार कर सके. इनमे से सेलेल्क्टेद व्यक्ति तीसरे राउंड में प्रवेश करते हैं.

इस कम्पटीशन व ऑडिशन की खासियत यह है की पहले दो राउंड या चरण हमे अपने ही स्थान से करने होते हैं स्काइप के द्वारा.  तीसरे राउंड के लिए रेडियो मधुबन की टीम हमारे स्थान पर आते हैं और वहां बडे पैमाने पर लोगों को एकत्रित करके तीसरे राउंड की कम्पटीशन व ऑडिशन होती है. इस फाइनल राउंड के सभी प्रतियोगी को सर्टिफिकेट दिया जाता है व प्रथम दुसरे और तीसरे स्थान पर आने वालों को सर्टिफिकेट के साथ साथ ट्राफी भी दी जाती है.

इन्ही सभी बातों को ध्यान में रखते हुए आर जे रमेश ने अजमेर में सोशियोलॉजी डिपार्टमेंट के हेड डॉ. प्रताप पिन्जनानी जी के साथ मिलकर अजमेर के सम्राट प्रिथिविर्राज चौहान राजकीय कॉलेज में रेडियो मधुबन ९०.४ फ म के सहयोग से इस तरंग कार्यक्रम का आरम्भ १३ फेब्रुअरी २०१७ में किया. पहले दो राउंड के ऑडिशन स्काइप पर लिए गए जिसे रेडियो मधुबन में लाइव टेलीकास्ट किया गया. सभी विद्यार्थियों ने राष्ट्र भक्ति गीतों अवं भजनों पर आधारित प्रस्तुती दी.

पहले राउंड में कुल २९ विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया जिनमे से १६ विद्यार्थी दुसरे राउंड में प्रवेश हुए. म्यूजिक डिपार्टमेंट के हेड डॉ. मतनी जी एवम सीनियर म्यूजिक टीचर डॉ. मधु माथुरजी एवम कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ.सुरेन्द्र जी ने भी इस प्रोग्राम की भूरी भूरी प्रशंसा की. डॉ, मतनिजी अवेम डॉ, मधु माथुरजी ने अपनी मधुर आवाज़ से श्रोताओं का मन मोह लिया.

मुख्य अतिथि ब्रह्मा कुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय की शांता बहनजी थी. संयोजन डॉ, प्रताप पिंजानी जी और संचालन डॉ, अनीता खुराना ने किया.  निर्णायक डॉ, दुष्यंत त्रिपाठी और क्षितिज सिंह राठोड रहे.

इनमे से टॉप थ्री में पहुंचे

1 – प्रथम तेजपाल सिंह

2 – दिवितिया  प्रिया भाटिया

3 – तृतीय  पूनम नवनानि

इन तीनो को सर्टिफिकेट व ट्राफी से नवाज़ा गया. बाकी जो सात प्रतियोगी फाइनल राउंड में पहुंचे उन्हे केवल सर्टिफिकेट दिया गया. इस प्रकार बहुत ही सफलतापूर्वक सराहनीय रूप से तरंग कार्यक्रम का संपन्न हुआ.

For More details Visit – http://rjramesh.site123.me/

 

Create a free website or blog at WordPress.com.

Up ↑